घटना स्थल पर पहुंचे एएसपी व सीओ, परिजनों से की बात





बीसलपुर:- गांव सफौरा में संदिग्ध परिस्थितियों में खेत में लगे शहूतस के पेड़ पर शव लटका मिला। जिससे क्षेत्र में सनसनी फैल गई। सुबह जब


ग्रामीण अपने अपने खेतों पर जा रहे तो उनकी नजर लटक रहे शव पर पड़ी। जिससे


गांव में खलबली मच गई। मामले की सूचना परिजनों को दी गई। सूचना मिलते ही


परिजन रोते बिलखते मौके पर पहुंच गए। जिससे इसकी सूचना पुलिस को भी दी गई जिसमें मौके पर ही घटना स्थल पर एएसपी समेत भारी पुलिस फोर्स पहुंचा। जहां अधिकारियों ने घटना स्थल का मौका मुआयना


किया तथा शव का शीलकर पोस्टमार्टम के लिए जिला मुख्यालय भेज दिया है।


कोतवाली क्षेत्र के गांव सफौरा निवासी रामकिशन की 16 वर्षीय


पुत्री आरती अपने घर पर रात्रि 11 बजे मोबाइल देखती रही। अन्य परिजन सो


रहे थे। रात्रि लगभग 12 बजे आरती की दादी कोकिला देवी की जब आंख खुली तो


उसने देखा कि अरती घर में नहीं है। तभी वह शोर मचाने लगी। शोर सुनकर अन्य


परिजन भी जाग गए और रात्रि में आरती तलाश शुरू कर दी, लेकिन उसका कोई पता नहीं चल सका। सुबह जब ग्रामीण अपने अपने खेतों पर जा रहे थे। तभी गांव के निकट एक खेत में शहतूस के पेड़ पर आरती का उसकी ही चुन्नी से शव लटका देखा गया। जिससे गांव में अफरा तफरी मच गई। आरती के शव लटकने की सूचना गांव में आग की तरह फैल गई। मौके पर सैकड़ों ग्रामीणों की भीड़ जमा हो गई। मामले की सूचना कोतवाली पुलिस को दी गई। सूचना मिलते ही सीओ प्रवीण मलिक,


कोतवाल केके तिवारी पुलिस टीम के साथ घटना स्थल पर पहुंच गए। जहां पर


उन्होंने घटना स्थल का मौका मुआयना किया तथा किशोरी के शव को फंदे से


नीचे उतरवाया। शव को शीलकर पोस्टमार्टम के लिए जिला मुख्यालय भेज दिया।


इसके बाद गांव में एएसपी रोहित मिश्रा पहुंचे उन्होंने भी घटना स्थल का


मौका मुआयना किया तथा परिजनों से बातचीत की। आरती की दादी कोकिला देवी का कहना है कि उसकी नातिन को रात्रि लगभग 12 बजे गांव के कुछ लोग उठाकर ले गए और उसकी हत्या कर शव को फंदे पर लटका दिया। फिलहाल किशोरी की मौत कैसे


हुई और किसने की इस बात का अभी तक पता नहीं चल सका है। यह तो पोस्टमार्टम


रिपोर्ट आने पर ही स्पष्ट हो सकेगा। वहीं पुलिस हत्या को आत्महत्या बता


रही है। क्योंकि पुलिस का कहना है कि आरती के घर से सुसाइट नोट मिला है।


जिससे साफ पता चलता है कि किशोरी ने आत्महत्या की है। फिलहाल किशोरी की


मौत के बाद पिता का रो-रोकर बुराहाल हो गया है। वहीं दादी भी नातिन की


मौत से काफी दुखी है। आरती की मां रूद्रपुर में मजदूरी करती है। समाचार


लिखे जाने तक पुलिस को किसी भी प्रकार कोई तहरीर नहीं दी गई।


शहतूस के पेड़ पर आखिर कैसे चढ़ी आरती गांव सफौरा में जब सुबह आरती का शव लटका देखा गया तो क्षेत्र


में सनसनी फैल गई। मौके पर सैकड़ों ग्रामीणों की भीड़ जमा हो गई। वहीं


ग्रामीणों में चर्चाएं चल रही थी कि आखिर आरती शहतूस के पेड़ पर इतनी


ऊंचाई पर कैसे चढ़ गई और उसने किस प्रकार से फांसी लगा ली। क्योंकि शहतूस


के पेड़ की टहनियां काफी पतली है। जिससे साफ पता चल रहा है कि आरती की


हत्या कर शव को पेड़ पर लटकाया गया हैं। यदि आरती घर से आत्महत्या करने


आती तो उसके पैर चप्पले या जूती होती, लेकिन आरती के पैरों में चप्पले व


 


जूती नहीं थी केवल मोजे पहने हुए थी।






Popular posts