पूर्वोत्तर रेलवे यात्रियों को सुखद यात्रा प्रदान करने के लिए निरंतर कार्यरत : महाप्रबन्धक

 

गोरखपुर 27 दिसंबर (आरएनएस)।पूर्वोत्तर रेलवे यात्रियों को सुखद यात्रा प्रदान करने के लिए निरंतर कार्यरत है। वर्तमान समय में भारत सरकार तथा जनता को रेल से काफी अपेक्षाएं हैं कई नई योजनाएं लागू की जा रही है जिसके अंतर्गत अद्यतन यात्री सुविधाओं का विस्तार ,गाड़ियों की गति बढ़ाने ,नई रेल लाइन बिछाने एवं आधारभूत सुविधाओं का विकास एवं विस्तार का कार्य किया जा रहा है ।पूर्वोत्तर रेलवे कुल 3477 .05 रूट किमी रेल पथ ,505 स्टेशन एवं 332 गाड़ियों के माध्यम से यात्रियों को बेहतर सुविधा प्रदान कर रही है। आज यहां पूर्वोत्तर रेलवे के महाप्रबंधक राजीव मिश्रा पत्रकारवार्ता कर रहे थे।

 महाप्रबंधक श्री मिश्र ने बताया कि संरक्षा प्रथम पर कार्य करते हुए इस वर्ष पूर्वोत्तर रेलवे ने उल्लेखनीय प्रगति की है ।बैकलाक ट्रैक  रिनुअल के कार्य तेजी से किए जा रहे हैं। पुराने सिग्नलिग बॉक्सेज को बदला जा रहा है। 15 ट्रेनों के 23 रैक को आईसीएफ से एलएचबी कोचेज में बदला गया है। बड़ी लाइन के सभी अनमैंड लेवल क्रॉसिंग हटा दिए गए हैं जिससे संख्या सुदृढ़ हुई है। पिछले वर्ष की तुलना में इस वर्ष समय पालन में 6% का सुधार हुआ है। यात्रियों को बेहतर सुविधा प्रदान करने के लिए रेलवे निरंतर प्रयासरत हें ।इसी क्रम में पूर्वोत्तर रेलवे के विभिन्न स्टेशनों पर 17 लिफ्ट तथा 24 एस्केलेटर लगाए गए हैं तथा 14 लिफ्ट एवं दो एस्केलेटर लगाए जाने का कार्य प्रगति पर है। गोरखपुर स्टेशन पर प्लेटफार्म संख्या 9 की तरफ महिला एवं पुरुष वातानुकूलित वेटिंग हाल यात्रियों के लिए खोला गया।

 

उन्होंने बताया कि गोरखपुर स्टेशन स्थित रिटायरिंग रूम का आधुनिकरण किया गया गोरखपुर -लखनऊ रूट के 38 ट्रेनों में ट्रेन साइड वेडिंग की सुविधा प्रदान की गई है पूर्वोत्तर रेलवे पर पैदल ऊपर गामी पुल बनाए गए हैं तथा 73 प्लेटफार्म को उच्चकृत किया गया है ।बेहतर उद्घोषणा हेतु गोरखपुर एवं लखनऊ स्टेशन पर रेल डिस्प्ले नेटवर्क लगाए गया है। प्रथम कारपोरेट ट्रेन तेजस एक्सप्रेस लखनऊ जंक्शन से चलाई गई ।उन्होंने बताया कि डिजिटलाइजेशन के क्षेत्र में भी पूर्वोत्तर रेलवे ने अभूतपूर्व प्रगति है जैसे एच आई एम, एस एच आर  एस, यू एम आई डी, ई ऑफिस ,ई लाइब्रेरी ,ई दस ।

 

यात्रियों को टिकट के लिए लाइन में न लगना पड़े इसके लिए अन - रिजवर्ड टिकटिंग हेतु मोबाईल एप डेवलप किया गया है। ओ बी एच यस की मानीटरिंग के लिए सफाई एप  भी डेवलप  किया गया है।

 महाप्रबंधक ने बताया कि प्रधानमंत्री के स्वच्छ भारत मिशन में अपना योगदान देते हुए पूर्वोत्तर रेलवे के लगभग 90% कोचेज में बायो -टॉयलेट लगाया गया है। 57 ट्रेनों में ओबीएचएस की सुविधा उपलब्ध कराई गई है तथा तीन क्लीन ट्रेन स्टेशन के माध्यम से 67 ट्रेनों में सफाई की सुविधा दी जा रही है। ऊर्जा संरक्षण के क्षेत्र में रेलवे लगातार कार्य कर रहा है सभी स्टेशनों रेल परिसरों में 100% एलइडी लाइटिंग की व्यवस्था की गई है नए वर्ष में सभी को जिनमें 100% एलईडी लाइट्स लगा दी जाएगी। पूर्वोत्तर रेलवे के लगभग सभी मेन रेल लाइनों को विद्युतीकृत कर दिया गया है।

 उन्होंने बताया कि विद्युतीकरण के कार्य 2019 में वाराणसी जंक्शन- इलाहाबाद ,ओड़िहार -जौनपुर कप्तानगंज -थावे ,मथुरा- फर्रुखाबाद, कन्नौज- कल्याणपुर, मनकापुर -कटरा- अयोध्या ,हरदत्तपुर -कछुआ (दोहरीकरण), राजातालाब -हरदत्तपुर (दोहरीकरण), थावे- राजापट्टी (दोहरीकरण )पूर्ण हो चुका है .साथ ही साथ 2020 में राजापट्टी -छपरा कचहरी ,भटनी -ओड़िहर,फेफना- इंदारा ,मऊ -शाहगंज, सलेमपुर -बरहज बाजार, दुरौधा -महाराजगंज -मशरख, डालीगंज -सीतापुर ,कन्नौज- फर्रुखाबाद ,कासगंज -बरेली का कार्य कराना लक्षित है।

 उन्होंने बताया कि परियोजनाओं में 2019 में मंधना -ब्रह्मवर्त (आमान परिवर्तन), ऐशबाग- लखीमपुर (आमान परिवर्तन ),छपरा ग्रामीण- खैरा (बाईपास), मडुआडीह -कछवा रोड (दोहरीकरण), मडुआडीह- लोहता (बाईपास) पूर्ण हो चुका है ।नए वर्ष 2020 में लक्षित परीयोजनाएं छपरा- औड़िहार(  दोहरीकरण), कछवा रोड -जमी गंज (दोहरीकरण) बुढवल- मुंडा गोपाल( दोहरीकरण), गोरखपुर -नकहा जंगल (दोहरीकरण), तीसरी लाइन गोरखपुर -कुसमी ,लखीमपुर- मैलानी (आमान परिवर्तन), पीलीभीत- शाहजहांपुर (आमान परिवर्तन ),औड़िहार-डोभी ( दोहरीकरण) है।

 

 महाप्रबंधक ने बताया कि बिना किसी उचित एवं पर्याप्त कारण उसके अलार्म चेनपुलिंग का दुरुपयोग कर रेल परिचालन को बाधित करने वाले 2414 व्यक्तियों को अभियोजित करके रुपया 19,70 ,350 की दंड स्वरूप वसूली की गई है ।रेलवे क्षेत्र को स्वच्छ रखने के कार्यवाही के तहत 1708 व्यक्तियों को गंदगी फैलाने के आरोप में गिरफ्तार कर रुपया 9,30, 920 को जुर्माने के रूप में वसूली की गई है। महिलाओं की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए विशेष अभियान चलाते हुए महिला कोच में 1697 व्यक्तियों को अनधिकृत प्रवेश करने के जुर्म में गिरफ्तार कर रुपया 5,11 ,595 दंड स्वरूप जुर्माना वसूला गया।

 

 उन्होंने बताया कि रेलवे के संपर्क में आए 571 बच्चों को जिनमें से 412 लड़के और 159 लड़कियों को त्वरित राहत देते हुए एनसीपीसीआर द्वारा दिए गए निर्देशों का पालन करते हुए सीडब्ल्यूसी के समक्ष प्रस्तुत किया गया। महाप्रबंधक ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में कैबिनेट कमेटी ने रेलवे में आरगनाइजेशन रि -स्ट्रक्चरिंग की अनुमति प्रदान की है जिसके अंतर्गत ग्रुप- ए की 8 सेवाओं को इंडियन रेलवे मैनेजमेंट सर्विस में एकीकृत किया गया। इस परिवर्तन से रेलवे की कार्य प्रक्रिया सरल होगी तथा निर्णय लेने की प्रक्रिया में तेजी आएगी ।इससे रेलवे ऑर्गनाइजेशन और अधिक सक्षम और कुशल हो सकेगा। रेलवे बोर्ड स्तर पर भी कुछ परिवर्तन किया गया है अब रेलवे बोर्ड में चार फंक्शनल सदस्य होंगे इंफ्रास्ट्रक्चर, ऑपरेशन व बिजनेस डेवलपमेंट, रोलिंग स्टॉक, फाइनेंस ।इसके अतिरिक्त कुछ स्वतंत्र सदस्य भी रखे जाएंगे जिन्हें उद्योग ,फाइनेंस, अर्थ जगत एवं प्रबंधन के क्षेत्र में सर्वोच्च स्तर पर 30 वर्षों का अनुभव होगा इससे रेलवे बोर्ड अधिक बेहतर स्ट्रक्चर के रूप में कार्य करेगा।

Popular posts