वीजीएम पीजी कॉलेज में स्वर्गीय  प्रबंधक\ संरक्षक  राम शंकर गुप्त  की स्मृति में शोक दिवस मनाया गया|

 

दिबियापुर ।(आरएनएस )   वीजीएम के प्राचार्य डॉक्टर इफ्तिखार हसन की अध्यक्षता में  महाविद्यालय के समस्त स्टाफ एवं विद्यार्थियों की उपस्थिति में एक शोक सभा का आयोजन महाविद्यालय में किया गया |इस अवसर पर बीएड की विभागाध्यक्ष डॉक्टर ममता शुक्ला ने अपने उद्बोधन में महाविद्यालय के संरक्षक  राम शंकर गुप्ता को सारे महाविद्यालय परिवार का अभिभावक बताया| उन्होंने कहा कि इस दुख के क्षणों में पूरा महाविद्यालय परिवार व्यथित है| डॉ राकेश तिवारी ने सभा का संचालन करते हुए कहा कि आदरणीय प्रबंधक  को अपने मध्य ना पाकर पूरा महाविद्यालय परिवार अपने आप को दुखी एवं अकेला महसूस कर रहा है| प्रोफ़ेसर आलोक यादव ने  गुप्त जी द्वारा स्थापित इस महाविद्यालय को जिले की   सर्वोच्च संस्था बताया तथा उनके अनवरत त्याग एवं परिश्रम का प्रतिफल वीजीएम को  बताया| प्रोफेसर गजेंद्र यादव ने सदैव बाबूजी को एवं  उनके  उत्सर्ग अमूल्य  बताया| और  पूर्व प्राचार्य डॉक्टर इंद्रमोहन गुप्त ने बताया कि किस प्रकार उन्होंने अनेक लोगों को रोजगार प्रदान किया एवं महाविद्यालय की विकास यात्रा को निरंतर आगे बढ़ाया हम सब उन्हें अपने मध्य ना पाकर बहुत ही दुखी हैं| प्रोफेसर हर्षवर्धन अग्रवाल ने उनके जीवन से समय पालन  से सीख लेने की शिक्षा दी  |डॉ डीसी विश्नोई ने  उन्हें शिक्षा जगत का नायक बताया| अपने उद्बोधन में  प्राचार्य डॉक्टर  इफ्तेखार हसन ने सदैव बाबूजी को इस क्षेत्र में शिक्षा का सबसे बड़ा कर्म योद्धा बताया| उन्होंने उनकी जीवन संघर्ष पर प्रकाश डालते हुए कहा की स्वतंत्रता संग्राम सेनानी श्री जयप्रकाश नारायण जी की संगति में उन्होंने स्वतंत्रता संग्राम के मूल्यों को अपने जीवन में अपनाया|  वे कर्म एवं निष्ठा की प्रतिमूर्ति थे| उन्होंने सही मायनों में गांधीवादी मूल्यों को अपने जीवन में उतारा| उनके जीवन में धर्म ,जाति ,क्षेत्र एवं अन्य  शूद्र भावनाओं से ऊपर उठकर सोचते थे |उनके लिए मानव मूल्य सर्वोपरि थे| उन्होंने अपने जीवन के प्रारंभिक चरणों में स्वतंत्रता की प्रतीक खादी को आगे बढ़ाया वही 1972 से निरंतर उन्होंने जिले में उच्च शिक्षा के क्षेत्र में नित नए प्रतिमान स्थापित किए |उनका संपूर्ण जीवन शिक्षा एवं समाज सेवा को समर्पित रहा| उनका असमयइस संसार से जाना ना केवल महाविद्यालय बल्कि इस क्षेत्र की अपूरणीय क्षति ह|ै उन्होंने महाविद्यालय परिवार के साथ हमेशा अपने परिवार की तरह व्यवहार किया |वह अनेक कर्मचारियों के जीवन का संबल   ब  ने |डॉक्टर हसन ने समस्त महाविद्यालय परिवार की ओर से   आदरणीय बाबूजी को श्रद्धा सुमन अर्पित करते हुए आश्वासन दिया कि पूरा महाविद्यालय परिवार एकजुट रहकर उनके द्वारा स्थापित शिक्षा मूल्यों को एवं संस्था को आगे बढ़ाएगा |शोक सभा के अवसर पर महाविद्यालय के समस्त सदस्य उपस्थित रहे| प्रोफेसर डॉ रीना आर्या ,डॉक्टर देशबंधु गुप्ता ,डॉक्टर शैलेंद्र गुप्ता, अनुपम तिवारी ,प्रदीप कुमार ,सत्यदेव रमेश  दोहरे ,नरेंद्र कश्यप संतोष कुमार  ,कामता प्रसाद आदि महा विद्यालय परिवार ने उपस्थित रहकर बाबू जी को श्रद्धांजलि अर्पित की एवं ईश्वर से कामना की कि उन्हें स्वर्ग में उच्च स्थान प्राप्त हो साथ ही दुखी परिवार के साथ अपनी संवेदना व्यक्त की|

 

 

 

Popular posts